♦ आपली इयत्ता निवडा ♦

१ ली २ री ३ री ४ थी ५ वी ६ वी ७ वी ८ वी ९ वी १० वी

Coronavirus Case News In Hindi : China Clarify After Ruckus Over Bad Ppe Kit, Said Will Took Serious Action In This Case, Help India – खराब पीपीई किट पर बवाल के बाद चीन की सफाई, कहा- मामले में गंभीर, भारत की मदद करेंगे




अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली।
Updated Thu, 23 Apr 2020 01:37 AM IST

ख़बर सुनें

खराब गुणवत्ता वाले पीपीई किट मामले में आलोचनाओं का सामना कर रहे चीन ने सफाई दी है। चीन ने इस मामले को बेहद महत्वपूर्ण और गंभीर बताते हुए चीन ने भारत की मदद करने की बात कही है। गौरतलब है कि चीन से आयातित पीपीई किट के बड़ी संख्या में खराब पाए जाने के बाद भारत ने मंगलवार को इस किट के मामले में कोरोना की जांच पर दो दिन के लिए रोक लगा दी थी।

इस मामले में भारत स्थित चीनी दूतावास ने कहा कि हमारे के लिए सामान की गुणवत्ता महत्वपूर्ण है। यह मामला बेहद गंभीर है। चीन से जो भी किट भारत भेजा गया है उसकी गुणवत्ता का मामला हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण है। हम लगातार भारतीय एजेंसियों के संपर्क में है। भारत की हर संभव सहायता की जाएगी।

दूतावास ने अपने बयान में यह भी कहा कि आयात करने से पहले सामान की गुणवत्ता और कंपनी की पड़ताल कर लेनी चाहिए। भारत को चीन के प्रमाणित कंपनियों से ही मेडिकल सामान लेना चाहिए। ऐसी कंपनियों से सामान खरीदा जाना चाहिए जिसे चीनी अधिकारियों ने सत्यापित किया हो।

दान से आया किट था खराब 
इस बीच नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा कि चीन से आई खराब पीपीई किट दरअसल किसी ने दान में भेजा था। उन्होंने कहा कि किसी ने चीन में पीपीई किट दान किए थे। चूंकि इसकी क्वालिटी खराब है। इसलिए इसे वापस दानकर्ता को भेज दिया जाएगा।

खराब गुणवत्ता वाले पीपीई किट मामले में आलोचनाओं का सामना कर रहे चीन ने सफाई दी है। चीन ने इस मामले को बेहद महत्वपूर्ण और गंभीर बताते हुए चीन ने भारत की मदद करने की बात कही है। गौरतलब है कि चीन से आयातित पीपीई किट के बड़ी संख्या में खराब पाए जाने के बाद भारत ने मंगलवार को इस किट के मामले में कोरोना की जांच पर दो दिन के लिए रोक लगा दी थी।

इस मामले में भारत स्थित चीनी दूतावास ने कहा कि हमारे के लिए सामान की गुणवत्ता महत्वपूर्ण है। यह मामला बेहद गंभीर है। चीन से जो भी किट भारत भेजा गया है उसकी गुणवत्ता का मामला हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण है। हम लगातार भारतीय एजेंसियों के संपर्क में है। भारत की हर संभव सहायता की जाएगी।

दूतावास ने अपने बयान में यह भी कहा कि आयात करने से पहले सामान की गुणवत्ता और कंपनी की पड़ताल कर लेनी चाहिए। भारत को चीन के प्रमाणित कंपनियों से ही मेडिकल सामान लेना चाहिए। ऐसी कंपनियों से सामान खरीदा जाना चाहिए जिसे चीनी अधिकारियों ने सत्यापित किया हो।

दान से आया किट था खराब 
इस बीच नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा कि चीन से आई खराब पीपीई किट दरअसल किसी ने दान में भेजा था। उन्होंने कहा कि किसी ने चीन में पीपीई किट दान किए थे। चूंकि इसकी क्वालिटी खराब है। इसलिए इसे वापस दानकर्ता को भेज दिया जाएगा।




Source link

Leave a comment