♦ आपली इयत्ता निवडा ♦

१ ली २ री ३ री ४ थी ५ वी ६ वी ७ वी ८ वी ९ वी १० वी

Ground Report: Stories Of Those Who Defeated The Corana Virus – ग्राउंड रिपोर्ट: डर से नहीं, लड़ने से हारेगा कोरोना, यकीन न हो तो पढ़िए इनके बारे में




अस्पताल से घर जा रहे मरीजों को गुलाब व डिस्चार्ज टिकट दिया। इस दौरान सेल्फी लेती एक युवती।
– फोटो : Amar Ujala

ख़बर सुनें

सुबह हुई और टीवी का स्विच ऑन किया, अखबार के पन्ने पलटे और मोबाइल पर दुनियाभर की वेबसाइट को खंगाल डाला। मन में यही सवाल, आज संक्रमितों की संख्या कल से ज्यादा है या कम? मृतकों की संख्या पिछले 24 घंटे में कितनी रही ? कोरोना के नए संक्रमित कहां-कहां मिले? कहीं मेरे इलाके में तो कोई नया मरीज नहीं मिला है? और इन्हीं सब सवालों के उत्तर आप मीडिया के माध्यमों, एंकरों की आवाजों और टीवी पर बैठे विशेषज्ञों की राय में खोजने लगते हैं। गर्मी बढ़ने से कोरोना हारेगा…पता नहीं। क्या गरम पानी पीने से… और न जाने कितने उपायों के बीच आपके अंतर्मन में यह द्वंद्व चलता रहता है। लेकिन आज अमर उजाला आपको मृतकों के बारे में नहीं बल्कि उन लोगों के बारे में बताने वाला है जो आपके अंदर सकारात्मकता भर देंगे।  वो न सिर्फ इस बीमारी का शिकार हुए बल्कि उसे हराकर आज फिर अपनी जिंदगी को एक नए मायने दे रहे हैं। इन्हीं में से कुछ चुनिंदा लोगों की कहानी आपके सामने है…

आगरा: कोरोना को कैसे हराना है आगरा के अशोक कपूर से सीखें, पीएम मोदी ने सुने अनुभव
दुनियाभर में कहर मचा रहा कोरोना वायरस असाध्य बीमारी है, लेकिन इसे हराया जा सकता है। इस खतरनाक वायरस से संक्रमित हुए सैकड़ों लोग स्वस्थ हो चुके हैं। इनमें आगरा के जूता कारोबारी अशोक कपूर और उनका परिवार भी शामिल है। इस परिवार ने अपनी इच्छाशक्ति, हौसला और अनुशासन से कोरोना वायरस को मात दी है। स्वस्थ हुए अशोक कपूर से खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी जीत के अनुभव सुने। और पढ़ें…

मुरादाबादः कोरोना को हराकर घर लौटी मारीषा, विदाई के लिए जमा था अस्पताल स्टाफ
मुरादाबाद की पहली कोरोना संक्रमित युवती मारीषा ने वायरस को हरा दिया। पूरी तरह ठीक होकर अपने घर पहुंच गई। मारीषा 23 दिन तक जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती रही। लगातार दूसरी सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आने पर अस्पताल से उसे डिस्चार्ज कर दिया। 19 साल की मारीषा शुक्ला पुत्री संदीप शुक्ला फ्रांस में पढ़ाई कर रही है। अप्रैल 2019 से वह फ्रांस में है। 15 मार्च को फ्रांस से लौटने के बाद 17 मार्च को वह अपने रिश्तेदार प्रदेश के होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान के घर मूंढ़ापांडे पहुंची। और पढ़ें…

मेरठ: कोरोना को ऐसे दी मात, 17 दिन बाद ठीक होकर लौटा घर, लोगों को दिया ये संदेश
वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना संक्रमण से ठीक हुए सरूरपुर कलां के कपिल कुमार नैन का कहना है कि डॉक्टरों पर भरोसे ने ही उसे इतनी बड़ी जीत दिलाई है। पहली जांच से लेकर आखिर तक उसे डॉक्टरों पर पूरा भरोसा था। वह घबराया नहीं, बल्कि आत्ममंथन करता रहा। जो पीड़ित हैं, उनसे गुजारिश है कि सिर्फ डॉक्टर की बात मानें और हर सवाल का जवाब देने से ही ठीक हो सकेंगे। और पढ़ें…

हरियाणा: कोरोना को हराकर घर पहुंची सोनीपत की तमन्ना, लोगों ने बरसाए फूल
कोरोना वायरस को हराकर खानपुर मेडिकल कॉलेज के अस्पताल से अपने घर लौटी छात्रा तमन्ना जैन का थाली बजाकर व फूल बरसाकर स्वागत हुआ। इस तरह अपना स्वागत देखकर तमन्ना ने हिम्मत बढ़ाने पर हर किसी का आभार जताया। तमन्ना ने काफी दिन बाद घर का खाना खाया और परिजनों के साथ मंत्र जाप किया। तमन्ना ने जिस तरह से कोरोना वायरस को हराया है, उससे कोरोना पीड़ितों को हिम्मत मिलने की बात कही जा रही है। और पढ़ें…

उत्तराखंड: ठीक होकर लौटे कोरोना संक्रमित ट्रेनी आईएफएस शैलेंद्र, बताया कैसे कर सकते हैं बचाव
उत्तराखंड में कोरोना वायरस संक्रमण के बीच राहत की खबर है। कोरोना संक्रमित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी के ट्रेनी आईएफएस शैलेन्द्र सिंह ने कोरोना की जंग जीत ली है। लंबे समय से दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती ट्रेनी आईएफएस शैलेंद्र सिंह को डिस्चार्ज कर दिया गया है। और पढ़ें…

हिमाचल: डॉक्टरों ने बताया कैसे ठीक किया प्रदेश के पहले कोरोना मरीज को
कोरोना वायरस का खौफ जहां पूरी दुनिया में छाया है, वहीं हाई प्रोटीन डाइट से कांगड़ा के पॉजिटिव मरीज की सैंपल रिपोर्ट निगेटिव हो गई। डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल टांडा में उपचाराधीन मरीज की रिपोर्ट सात दिन में पॉजिटिव से निगेटिव हुई है। लंज क्षेत्र के दिनेश कुमार को टांडा अस्पताल में तैनात चिकित्सकों की टीम ने खांसी-जुकाम की दवा के साथ हाई प्रोटीन युक्त डाइट रूटीन में दी। और पढ़ें…

सुबह हुई और टीवी का स्विच ऑन किया, अखबार के पन्ने पलटे और मोबाइल पर दुनियाभर की वेबसाइट को खंगाल डाला। मन में यही सवाल, आज संक्रमितों की संख्या कल से ज्यादा है या कम? मृतकों की संख्या पिछले 24 घंटे में कितनी रही ? कोरोना के नए संक्रमित कहां-कहां मिले? कहीं मेरे इलाके में तो कोई नया मरीज नहीं मिला है? और इन्हीं सब सवालों के उत्तर आप मीडिया के माध्यमों, एंकरों की आवाजों और टीवी पर बैठे विशेषज्ञों की राय में खोजने लगते हैं। गर्मी बढ़ने से कोरोना हारेगा…पता नहीं। क्या गरम पानी पीने से… और न जाने कितने उपायों के बीच आपके अंतर्मन में यह द्वंद्व चलता रहता है। लेकिन आज अमर उजाला आपको मृतकों के बारे में नहीं बल्कि उन लोगों के बारे में बताने वाला है जो आपके अंदर सकारात्मकता भर देंगे।  वो न सिर्फ इस बीमारी का शिकार हुए बल्कि उसे हराकर आज फिर अपनी जिंदगी को एक नए मायने दे रहे हैं। इन्हीं में से कुछ चुनिंदा लोगों की कहानी आपके सामने है…

आगरा: कोरोना को कैसे हराना है आगरा के अशोक कपूर से सीखें, पीएम मोदी ने सुने अनुभव
दुनियाभर में कहर मचा रहा कोरोना वायरस असाध्य बीमारी है, लेकिन इसे हराया जा सकता है। इस खतरनाक वायरस से संक्रमित हुए सैकड़ों लोग स्वस्थ हो चुके हैं। इनमें आगरा के जूता कारोबारी अशोक कपूर और उनका परिवार भी शामिल है। इस परिवार ने अपनी इच्छाशक्ति, हौसला और अनुशासन से कोरोना वायरस को मात दी है। स्वस्थ हुए अशोक कपूर से खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी जीत के अनुभव सुने। और पढ़ें…




Source link