♦ आपली इयत्ता निवडा ♦

१ ली २ री ३ री ४ थी ५ वी ६ वी ७ वी ८ वी ९ वी १० वी

Madhya Pradesh : Congress Asked Questions To Bjp State President Regarding Situation Of Coronavirus In State – मध्यप्रदेश में कोरोना संकट पर कांग्रेस ने भाजपा पर साधा निशाना, पूछे 10 सवाल




न्यूज डेस्क, अमर उजाला, भोपाल
Updated Sun, 19 Apr 2020 06:55 PM IST

शिवराज सिंह चौहान और कमलनाथ (फाइल फोटो)

ख़बर सुनें

बता दें कि 20 मार्च को कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद 23 मार्च को शिवराज सिंह चौहान के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद लॉकडाउन की घोषणा की गई था। लॉकडाउन में देरी के इल्जाम पर भाजपा ने तर्क दिया था कि राहुल गांधी ने कोरोना वायरस को लेकर फरवरी में चेताया था, तब राज्य में कांग्रेस की ही सरकार थी, तब कमलनाथ ने कुछ क्यों नहीं किया। 

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा का कहना है कि कोरोना महामारी के इस संकटपूर्ण दौर में अपनी असफलता छिपाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पूर्व की कमलनाथ नीत कांग्रेस सरकार को कोस रहे हैं, जो कि आधारहीन है। इसे लेकर उन्होंने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष से 10 सवालों का जवाब मांगा है, जो इस तरह हैं…

  • पहला सवाल : जिस समय प्रदेश में कोरोना महामारी की आहट हो रही थी तो उस समय कोरोना की चिंता की बजाय प्रदेश में एक चुनी हुई सरकार को गिराने में कौन लगा था? जिस समय कमलनाथ सरकार प्रदेश में कोरोना से बचाव को लेकर आवश्यक उपाय कर रही थी और जरूरी निर्णय ले रही थी, उस समय कोरोना को ‘डरो ना’ कौन बता रहा था?
  • दूसरा सवाल : कोरोना महामारी के दौरान 23 मार्च को विधायक दल की भीड़ भरी बैठक किसने आयोजित की? बैठक में कोरोना के प्रोटोकॉल और गाइड लाइन का उल्लंघन करते हुए एक दूसरे का हाथ पकड़कर व गले मिलकर कौन बधाई देता रहा और हार पहन कर कौन फोटो खिंचाता रहा?
  • तीसरा सवाल : कोरोना महामारी के दौरान भी राजभवन में भीड़ भरा शपथ ग्रहण समारोह किसने आयोजित किया?
  • चौथा सवाल : महामारी के दौरान विधानसभा का सत्र किसने बुलवाया? इन सब निर्णयों से प्रदेश में कोरोना फैलने का जिम्मेदार कौन है?
  • पांचवां सवाल : जिस लॉकडाउन  की घोषणा मार्च के पहले सप्ताह में देशभर में होनी थी। उस निर्णय को मध्य प्रदेश सरकार को गिराने तक किसने रोका? 23 मार्च को शिवराज सिंह के शपथ लेने के बाद 24 मार्च को इसे लागू किया गया। यह लॉकडाउन पूर्व में लागू कर दिया जाता तो आज कोरोना की इतनी भयावहता नहीं होती , इसका दोषी कौन है?
  • छठा सवाल : मार्च से पहले प्रदेश में कितने कोरोना संक्रमित मरीज थे? 23 मार्च के बाद प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा कितना है और वर्तमान में अभी तक कुल कितनी मृत्यु मध्यप्रदेश में कोरोना से हो चुकी हैं और कुल कितने जिले अभी तक कोरोना से प्रदेश में प्रभावित हैं? इसके पीछे कौन दोषी है?
  • सातवां सवाल : मध्यप्रदेश में न स्वास्थ्य मंत्री है, न गृह मंत्री है और न अन्य जिम्मेदार मंत्री हैं। ऐसे संकट के समय में जब मुख्यमंत्री शपथ ले सकते हैं तो क्यों वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से अन्य मंत्रियों को शपथ नहीं दिलाई जा रही है? क्यों प्रदेश को एक व्यक्ति के भरोसे छोड़ रखा है, जिससे स्थिति प्रतिदिन बिगड़ रही है?
  • आठवां सवाल : आज कोरोना को लेकर मध्यप्रदेश देश में तीसरे स्थान पर है, प्रदेश का इंदौर देश में दूसरे स्थान पर है और प्रदेश के भोपाल में 100 से अधिक स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हैं, इसका दोषी कौन है?
  • नौवां सवाल : प्रदेश में पीपीई किट, मास्क, सैनिटाइजर और अन्य आवश्यक संसाधनों के अभाव में कई डॉक्टर, पुलिस कर्मी और स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हो चुके हैं। कईयों की मौत तक हो गई है, इसका जिम्मेदार कौन है?
  • दसवां सवाल : प्रदेशभर से प्रतिदिन आम मरीजों को इलाज न मिलने, इलाज व एंबुलेंस के अभाव में मौत की खबरें  सामने आ रही हैं। प्रदेश में पर्याप्त संख्या में टेस्टिंग नहीं हो हो पा रही है, जिससे कोरोना पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है, इसका दोषी कौन है?

सार

मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस संकट के बीच राजनीतिक जंग भी लगातार जारी है। अब कांग्रेस ने राज्य में कोरोना संक्रमण की स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से 10 सवाल पूछे हैं। कांग्रेस का कहना है कि राज्य में कोरोना संकट से बढ़ रही भयावहता को लेकर मुख्यमंत्री गंभीर नहीं हैं और इस मामले में अपनी असफलता का जिम्मा पूर्व की सरकार पर डाल रहे हैं।

विस्तार

बता दें कि 20 मार्च को कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद 23 मार्च को शिवराज सिंह चौहान के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद लॉकडाउन की घोषणा की गई था। लॉकडाउन में देरी के इल्जाम पर भाजपा ने तर्क दिया था कि राहुल गांधी ने कोरोना वायरस को लेकर फरवरी में चेताया था, तब राज्य में कांग्रेस की ही सरकार थी, तब कमलनाथ ने कुछ क्यों नहीं किया। 

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा का कहना है कि कोरोना महामारी के इस संकटपूर्ण दौर में अपनी असफलता छिपाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पूर्व की कमलनाथ नीत कांग्रेस सरकार को कोस रहे हैं, जो कि आधारहीन है। इसे लेकर उन्होंने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष से 10 सवालों का जवाब मांगा है, जो इस तरह हैं…

  • पहला सवाल : जिस समय प्रदेश में कोरोना महामारी की आहट हो रही थी तो उस समय कोरोना की चिंता की बजाय प्रदेश में एक चुनी हुई सरकार को गिराने में कौन लगा था? जिस समय कमलनाथ सरकार प्रदेश में कोरोना से बचाव को लेकर आवश्यक उपाय कर रही थी और जरूरी निर्णय ले रही थी, उस समय कोरोना को ‘डरो ना’ कौन बता रहा था?
  • दूसरा सवाल : कोरोना महामारी के दौरान 23 मार्च को विधायक दल की भीड़ भरी बैठक किसने आयोजित की? बैठक में कोरोना के प्रोटोकॉल और गाइड लाइन का उल्लंघन करते हुए एक दूसरे का हाथ पकड़कर व गले मिलकर कौन बधाई देता रहा और हार पहन कर कौन फोटो खिंचाता रहा?
  • तीसरा सवाल : कोरोना महामारी के दौरान भी राजभवन में भीड़ भरा शपथ ग्रहण समारोह किसने आयोजित किया?
  • चौथा सवाल : महामारी के दौरान विधानसभा का सत्र किसने बुलवाया? इन सब निर्णयों से प्रदेश में कोरोना फैलने का जिम्मेदार कौन है?
  • पांचवां सवाल : जिस लॉकडाउन  की घोषणा मार्च के पहले सप्ताह में देशभर में होनी थी। उस निर्णय को मध्य प्रदेश सरकार को गिराने तक किसने रोका? 23 मार्च को शिवराज सिंह के शपथ लेने के बाद 24 मार्च को इसे लागू किया गया। यह लॉकडाउन पूर्व में लागू कर दिया जाता तो आज कोरोना की इतनी भयावहता नहीं होती , इसका दोषी कौन है?
  • छठा सवाल : मार्च से पहले प्रदेश में कितने कोरोना संक्रमित मरीज थे? 23 मार्च के बाद प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा कितना है और वर्तमान में अभी तक कुल कितनी मृत्यु मध्यप्रदेश में कोरोना से हो चुकी हैं और कुल कितने जिले अभी तक कोरोना से प्रदेश में प्रभावित हैं? इसके पीछे कौन दोषी है?
  • सातवां सवाल : मध्यप्रदेश में न स्वास्थ्य मंत्री है, न गृह मंत्री है और न अन्य जिम्मेदार मंत्री हैं। ऐसे संकट के समय में जब मुख्यमंत्री शपथ ले सकते हैं तो क्यों वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से अन्य मंत्रियों को शपथ नहीं दिलाई जा रही है? क्यों प्रदेश को एक व्यक्ति के भरोसे छोड़ रखा है, जिससे स्थिति प्रतिदिन बिगड़ रही है?
  • आठवां सवाल : आज कोरोना को लेकर मध्यप्रदेश देश में तीसरे स्थान पर है, प्रदेश का इंदौर देश में दूसरे स्थान पर है और प्रदेश के भोपाल में 100 से अधिक स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हैं, इसका दोषी कौन है?
  • नौवां सवाल : प्रदेश में पीपीई किट, मास्क, सैनिटाइजर और अन्य आवश्यक संसाधनों के अभाव में कई डॉक्टर, पुलिस कर्मी और स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हो चुके हैं। कईयों की मौत तक हो गई है, इसका जिम्मेदार कौन है?
  • दसवां सवाल : प्रदेशभर से प्रतिदिन आम मरीजों को इलाज न मिलने, इलाज व एंबुलेंस के अभाव में मौत की खबरें  सामने आ रही हैं। प्रदेश में पर्याप्त संख्या में टेस्टिंग नहीं हो हो पा रही है, जिससे कोरोना पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है, इसका दोषी कौन है?




Source link